आज अपना हो न हो पर ,कल हमारा आएगा

आज अपना हो न हो पर ,कल हमारा आएगा
रौशनी ही रौशनी होगी, ये तम छंट जाएगा


आज केवल आज अपने दर्द पी लें
हम घुटन में आज जैसे भी हो ,जी लें
कल स्वयं ही बेबसी की आंधियां रुकने लगेंगी
उलझने ख़ुद पास आकर पांव में झुकने लगेंगी
देखना अपना सितारा जब बुलंदी पायेगा
रौशनी के वास्ते हमको पुकारा जाएगा

आज अपना हो न हो पर कल हमारा आएगा ............

जनकवि स्व .विपिन 'मणि '

Wednesday, December 31, 2008

सभी मित्रो व् साथियों को नव वर्ष की अनन्य शुभकामनाएं

सभी साथियों

एवं समस्त मित्रों

को

नव - वर्ष की

अनन्य शुभकामनाएं

" जहां पर भी अंधेरा हो , खुशी के दीप जल जायें
दुखों की बर्फ़ के सारे , जमे पर्वत पिघल जायें
भरा हो हर्ष से नव-वर्ष का, हर दिन हर इक लम्हा
सभी की आंख के सपने , हकीकत मे बदल जायें "

डा. उदय ’ मणि ’ कौशिक
एवं
परिवार

5 comments:

मोहन वशिष्‍ठ said...

कुछ ही पलों में आने वाला नया साल आप सभी के लिए
सुखदायक
धनवर्धक
स्‍वास्‍थ्‍वर्धक
मंगलमय
और प्रगतिशील हो

यही हमारी भगवान से प्रार्थना है

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

नया साल मुबारक हो!

नीरज गोस्वामी said...

आप को भी नव वर्ष की शुभ कामनाएं..
नीरज

कंचन सिंह चौहान said...

नये वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं...!

Atul Sharma said...

ओजमय और भाव से भरी कविताएं !
अगर कविताओं में प्रेम और रिश्‍तों के स्‍पन्‍दन को महसूस करना चाहते हैं तो मेरे ब्‍लॉग पर आपका सहर्ष स्‍वागत है।